Sunday, October 2, 2016

सिरकटा लैटर बॉक्स



सब्‍जी के बीच और सब्‍जी के बोझ से दबा यह लैटरबॉक्‍स मुंबई के एक उपनगर में भाजीवाले की शरण में है। भाजीवाला कहता है कि चिंता की कोई बात नहीं, डाक यहां से रोज निकलती है, मैंने तो इसे संभाल रखा है। मैंने यह फोटो खींचकर टाइम्‍स ऑफ दंडिया के सिटीजन रिपोर्टर को भेजी, जो पिछले हफ्ते छपी थी। शायद डाक विभाग का ध्‍यान इस तरफ जाए। 
लैटर बॉक्‍सों के हाल पर सन 2005 में मैंने एक कविता लिखी थी जो अन्‍यथा में छपी थी। 
आप यहां उसे फिर पढ़ सकते हैं।   


सिरकटा लैटर बॉक्स
(एक टूटे हुए लेकिन सेवारत लैटर बॉक्स के सूखे हुए आंसू)


खोपड़ा फट चुका है पर चिट्ठियां डलती हैं
ताला खुलता है डाक निकलती है ताला बंद होता है
लैटर बॉक्स नुक्कड़ पर खड़ा रहता है अहर्निश
चिड़ियां उड़ पहुंचती हैं दिग् दिगंत

फूटा कपाल दिन लद गए इस सेवा के
खत लिखने वाले अब नहीं रहे
उन बाबुओं के भी भाग फूटे
जिनकी अंगुलियों पर था गणित
कलम से मोती पिरोते थे
खिल खिल पड़ती थी अंग्रेजी की सुंदर लिखाई
इस लियाकत पर नौकरी मिली थी

रजिस्टरों के पेट भरे ताउम्र

आज भी पीठ सीधी करके बैठते हैं
तह लगा रुमाल जेब में होता है
पत्नी के हाथ का फूल कढ़ा
ध्यान मग्न
धूल भरे जाले लगे दड़बे नुमा डाकखानों में
सोचते हुए से सोचते से ही रह जाते से लगते हैं
इमारतों और स्टेशनरी जितने ही पुरातन

क्या वे उनकी ही संतानें हैं जो घूमने लगीं
मल्टी नेशनल कूरियर कंपनियों के झोले लटकाए
पिताओं ने खरीद दी हैं टोपियां धूप में कपाल बचाने को
माताएं भाग भाग बनाकर बांध देतीं रोटियां भिनसारे
बहनों ने इनकी काढ़े रुमाल
सोखेंगे पसीना जीवन पर्यंत
चप्पल चटकाते नए जमाने के इन हरकारों का

आएगा कबाड़ी एक दिन चार कहारों को लेकर
सिरकटे लैटर बॉक्स को रस्सों से बांध के ले जाया जाएगा घसीटते हुए
सरकारी विभाग के परखचे उड़ेंगे
संसद में इसकी सुनवाई का वक्त नहीं आएगा कभी
                  यहां दफ्तर खुलेंगे शेयर दलालों के कल।  

5 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’महापुरुषों की शिक्षाओं को अमल में लाना होगा - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्‍यवाद प्रियवर

      Delete
  2. लैटरबॉक्स पर एक रील सी घूम गई।
    हंसी का फब्बारा फूटा
    और आँखों से नमकीन झरना।

    डाकघर के सिरकटे लैटरबॉक्स में दिखने लगे
    अंग्रेजी हकूमत के अवशेष।

    कई सीन इर्द गिर्द घूमने लगे
    तुम्हारी कविता के साथ ।
    हंसी का फब्बारा फूटता
    आँखों के गीलेपन के साथ।

    ReplyDelete
  3. कविता को पुनः पुनः पढ़ने से तस्वीरें खुलने लगतीं हैं।

    ReplyDelete
  4. We are self publishing company, we provide all type of self publishing,printing and marketing services, if you are interested in book publishing please send your abstract=

    ReplyDelete