Thursday, October 8, 2009

तदेउष रोज़ेविच की कविताएं



1.बचा हुआ

मैं चौबीस का हूं

कसाईखाने में ले जाया गया

मैं बच गया


ये खोखले समानार्थी शब्द हैं

इंसान और जानवर

प्यार और नफरत

दोस्त और दुश्मन

अंधकार और प्रकाश

एक सा तरीका है इंसानों और जानवरों को मारने का


मैंने देखा है :

कटे पिटे लोगों से लदे ट्रकों के ट्रक

वे बचाए नहीं जाएंगे।


विचार महज शब्द हैं :

गुण और गुनाह

सच्च और झूठ

खूबसूरती और बदसूरती

हिम्मत और कायरता

गुण और गुनाह का वजन है बराबर

मैंने देखा है :

इंसान में जो था गुनहगार और गुणवान भी


मिले मुझे कई गुरू

जो मुझे फिर से देखने सुनने बोलने के काबिल बनाए

वस्तु और विचार को नाम दे फिर से

ज्योति से अंधेरा दूर करे


मैं चौबीस का हूं

कसाईखाने में ले जाया गया

मैं बच गया।

No comments:

Post a Comment